लघु सिंचाई विभाग

उत्तर प्रदेश सरकार

पूछे जाने वाले प्रश्न

प्रश्न 1:-निःशुल्क बोरिग योजना के पात्र लाभार्थी कौन है।
उत्तरः-लघु एवं सीमान्त श्रेणी के कृषक।

प्रश्न 2:-निःशुल्क बोरिग कराने लाभार्थी कहॉ तथा किससे सम्पर्क करें?
उत्तरः-कार्यालय खण्ड विकास अधिकारी/सहायक अभियन्ता लघु सिंचाई।

प्रश्न 3:-निःशुल्क बोरिग हेतु किन आवश्यक प्रपत्रो की आवश्यकता होती है?
उत्तरः-नवीनतम खतौनी,61ख,खसरा।

प्रश्न 4:-निःशुल्क बोरिग में क्या-क्या मिलेगा?
उत्तरः-लघु कृषक हेतु अनुदान सीमा रू० 5000,सीमान्त कृषक हेतु रू० 7000 तथा अनुसूचित जाति/जनजाति हेतु रू० 10000 के अन्तर्गत बोरिग कार्य पूर्ण कराया जाता है अनुदान के अतिरिक्त धनराशि कृषक द्वारा स्वंय वहन की जायेगी।

प्रश्न 5:-निःशुल्क बोरिग योजना में पम्पसेट लेना अनिवार्य है अथवा नही?
उत्तरः-नही।

प्रश्न 6:-निःशुल्क बोरिग योजना अन्तर्गत पम्पसेट स्थापित करने में कितना अनुदान मिलेगा?
उत्तरः-लघु कृषक हेतु अनुदान सीमा रू० 4500, सीमान्त कृषक हेतु रू० 6000 तथा अनुसूचित जाति/जनजाति हेतु रू० 9000 अनुदाय अनुमन्य है।

प्रश्न 7:-लाभार्थी द्वारा निःशुल्क बोरिग कुछ वर्शो पूर्व अपने खेत में करायी थी अब क्या वह अपने दूसरे खेत में बोरिग करा सकता है।
उत्तरः-शासनादेश के अनुसार अनुदान का लाभ एक नाम से एक ही बार अनुमन्य है। अतः दोबारा उसी नाम से लाभ नही दिया जा सकता।

प्रश्न 8:-निःशुल्क बोरिग कुछ वर्शो पूर्व करायी थी अब पानी नही दे रही है अथवा कम दे रही है क्या पुनः बोरिग का लाभ मिल सकता है?
उत्तरः-शासनादेश के अनुसार अनुदान का लाभ एक नाम से एक ही बार अनुमन्य है। अतः दोबारा उसी नाम से लाभ नही दिया जा सकता।

प्रश्न 9:-निःशुल्क बोरिग पिता के नाम है बटवारे में जो हिस्सा मुझे प्राप्त हुआ है वह अभी कागजो में दर्ज नही है क्या मेंरे चक में बोरिग हो सकती है?
उत्तरः-लाभार्थी कृषक के नाम से कृशि योग्य भूमि दर्ज होने पर ही लाभ निःशुल्क बोरिग का लाभ दिया जा सकता है।

प्रश्न 10:-निःशुल्क बोरिग योजनान्तर्गत नगद पम्पसेट खरीदने पर अनुदान का लाभ कैसे मिलेगा?
उत्तरः-पूर्ण प्रक्रिया हेतु सम्बन्धित कार्यालय खण्ड विकास अधिकारी/सहायक अभियन्ता लघु सिंचाई में सम्पर्क करें।

प्रश्न 11:-निःशुल्क बोरिग येाजनान्तर्गत नगद पाइप खरीदने पर अनुदान का लाभ कैसे मिलेगा?
उत्तरः-पूर्ण प्रक्रिया हेतु सम्बन्धित कार्यालय खण्ड विकास अधिकारी/सहायक अभियन्ता लघु सिंचाई में सम्पर्क करें।

प्रश्न 12:-निःशुल्क बोरिंग योजनान्तर्गत जल वितरण प्रणाली की क्या योजना है।
उत्तरः-कुल लक्ष्य के 25 प्रतिषत कृषकों हेतु एच.डी.पी.ई. पाइप साइज 90/110 एम.एम. न्यूनतम 30मी0 से 60मी0 तक पाइप अनुमन्य है अनुदान अधिकतम रू० 3000 निर्धारित है।

प्रश्न 1:-मध्यम/गहरी योजना का लाभ कौन-कौन ले सकता है?
उत्तरः-सभी श्रेणी के कृषक उक्त योजना के लिए पात्र है बषर्ते वह लघु सिंचाई विभाग की किसी योजना में डिफाल्टर न हों।

प्रश्न 2:-मध्यम/गहरी हेतु कहॉ आवेदन करें?
उत्तरः-कार्यालय सहायक अभियन्ता लघु सिंचाई अथवा अधिशासी अभियन्ता,लघु सिंचाई खण्ड

प्रश्न 3:-मध्यम/गहरी हेतु किन आवश्यक प्रपत्रो की आवश्यकता हेाती है?
उत्तरः-नवीनतम खतौनी,खसरा,एक पासपोर्ट साईज का फोटों,100 रू० का स्टाम्प।

प्रश्न 4:-मध्यम/गहरी हेतु अनुदान की धनराशि कितनी है?
उत्तरः-अनुदान की सीमा मध्यम गहरे नलकूप हेतु रू० 75000 एंव गहरे नलकूप हेतु रू० 100000 तक में बोरिग कार्य विभाग द्वारा सम्पन्न काराया जायेगा,अतिरिक्त धनराशि व्यय होने पर कृषक द्वारा स्वंय वहन किया जायेगा।

प्रश्न 5:-मध्यम/गहरी योजना में विद्युतीकरण हेतु क्या व्यवस्था है?
उत्तरः-दोनो ही योजनाओं में विद्युतीकरण हेतु पृथक से रू० 68000 का अनुदान देय है जो कृषक की बोरिग पूर्ण होने के बाद विद्युतीकरण हेतु विद्युत विभाग को सीधे भेजी जायेगी।

प्रश्न 6:-मध्यम/गहरी बोरिग कुछ वर्शो पूर्व करायी थी अब दूसरे खेत में करानी है?
उत्तरः-शासनादेश के अनुसार एक ही कृषक को दोबारा लाभ दिये जाने का प्राविधान नही है।

प्रश्न 7:-मध्यम/गहरी कुछ वर्शो पूर्व करायी थी अब पानी नही दे रही है अथवा कम दे रही है क्या पुनः बोरिग का लाभ मिल सकता है?
उत्तरः-शासनादेश के अनुसार बोरिग पूर्ण होने के छः माह के भीतर यदि कोई समस्या आती है तो पुनः लाभ दिया जा सकता है।

प्रश्न 8:-मध्यम/गहरी पिता के नाम है बटवारे में जो हिस्सा मुझे प्राप्त हुआ है वह अभी कागजो में दर्ज नही है क्या मेंरे चक में बोरिग हो सकती है?
उत्तरः-लाभार्थी कृषक के नाम से कृषि योग्य भूमि दर्ज होने पर ही लाभ लाभ दिया जा सकता है।

प्रश्न 9:-मध्यम/गहरी बोरिग असफल होने पर कृषक का जोखिम क्या होगा।
उत्तरः-लाभार्थी कृषक की बोरिग असफल होने पर बोरिग पर हुये व्यय का 10 प्रतिशत अधिकतम रू० 1000 जो भी कम हो कृषक द्वारा जमा धनराशि के अंश में से काट कर शेष धनराशि वापस कर दी जायेगी।

प्रश्न 10:-क्या पूर्व में फ्री बोरिग/गहरी बोरिग का लाभ ले चुके धारको को मध्यम गहरी बोरिग का लाभ मिलेगा।
उत्तरः-नही।

प्रश्न 11:-मध्यम/गहरी बोरिग हेतु ऋण कितना स्वीकृत हो सकता है।
उत्तरः-लघु सिंचाई विभाग के प्राक्कलन के आधार पर संबंधित बैंक द्वारा ऋण स्वीकृत किया जायेगा। ऋण केवल उतनी ही मात्रा में स्वीकृत किया जायेगा जो अनुमन्य अनुदान की राशि को काटकर शेष बचता है। कृषक आंशिक व्यय अपने श्रोतो से भी वहन कर सकता है,परन्तु उक्त आंशिक धनराशि उसे बैंक में जमा करनी होंगी।

प्रश्न 12:-मध्यम/गहरी बोरिग का सफलता का मापदंड क्या है।
उत्तरः-अतिदोहित व क्रिटिकल विकास खण्डों एंव हार्ड रॉक एरिया में नलकूप का निर्माण नही किया जाता है। बोरिग से कम से कम 4 लीटर प्रति सेकेण्ड अर्थात् लगभग 3200गैलेन प्रति घंटा का डिस्चार्ज प्राप्त होने पर बोरिग को सफल घोषित किया जायेगा। गहरी बोरिग हेतु पठारी क्षेत्रों में 1200 गैलेन प्रति घंटा का डिस्चार्ज होने का मानक है।

प्रश्न 13:-मध्यम/गहरी बोरिग पर जनरेटर स्थापित किया जा सकता है।
उत्तरः-मध्यम गहरी बोरिग हेतु जनरेटर अनुमन्य है किन्तु गहरी बोरिग के लिए नही।

प्रश्न 1:-योजना का लाभ कौन-कौन ले सकता है?
उत्तरः-दो प्रकार के समूहो का गठन कर लाभ लिया जा सकता है।
• अनुसूचित जाति/जनजाति कृषक बाहुल्य समूह
• सामान्य श्रेणी के लघु /सीमान्त कृषक बाहुल्य समूह
जिसमें अनुसूचितजाति/जनजाति/अन्य पिछडा जाति/अल्प संख्यक वर्ग/गरीबी रेखा के नीचे/अन्य वर्ग के कृषकों को वरीयता दी जायेगी।

प्रश्न 2:-कहॉ आवेदन करें?
उत्तरः-कार्यालय खण्ड विकास अधिकारी।

प्रश्न 3:-किन आवश्यक प्रपत्रो की आवश्यकता हेाती है?
उत्तरः-कार्यालय खण्ड विकास अधिकारी में तैनात अवर अभियन्ता,लघु सिंचाई से सम्पर्क करें।

प्रश्न 4:-बोरिग कार्य कैसे होगा?
उत्तरः-कार्यालय खण्ड विकास अधिकारी में तैनात अवर अभियन्ता,लघु सिंचाई से सम्पर्क करें।

प्रश्न 5:-योजना में अनुदान की धनराशि कितनी है?
उत्तरः-अनुसूचित जाति/जनजाति कृषक के बाहुल्य समूह हेतु रू० 5.00 लाख एंव सामान्य श्रेणी के लघु /सीमान्त कृषक बाहुल्य समूह हेतु रू० 3.92लाख।

प्रश्न 1:-योजना का लाभ कौन-कौन ले सकता है?
उत्तरः-व्यक्तिगत तथा समूह बनाकर लाभ लिया जा सकता है।

प्रश्न 2:-कहॉ आवेदन करें?
उत्तरः-कार्यालय खण्ड विकास अधिकारी में तैनात अवर अभियन्ता,लघु सिंचाई से सम्पर्क करें।

प्रश्न 3:-किन आवश्यक प्रपत्रो की आवश्यकता हेाती है?
उत्तरः-कार्यालय खण्ड विकास अधिकारी में तैनात अवर अभियन्ता,लघु सिंचाई से सम्पर्क करें।

प्रश्न 4:-बोरिग कार्य कैसे होगा?
उत्तरः-कार्यालय खण्ड विकास अधिकारी में तैनात अवर अभियन्ता,लघु सिंचाई से सम्पर्क करें।

प्रश्न 5:-योजना में अनुदान की धनराशि कितनी है?
उत्तरः-व्यक्तिगत एंव सामूहिक कूपो के निर्माण हेतु कूप की लागत का शतप्रतिशत अनुदान अनुमन्य है।

प्रश्न 6:-योजना प्रदेश के किन क्षेत्रों में लागू है।
उत्तरः-योजना प्रदेश के पठारी एंव अर्द्धपठारी क्षेत्रो में क्रियान्वित की जा रही है।

प्रश्न 7:-पाताल तोड (आर्टिजन वेल) किन क्षेत्रो में संचालित है।
उत्तरः-योजना अब बन्द कर दी गयी है।